Breaking News

Rajkumar Aggarwal

भाइयों की राहें जुदा
अजय चौटाला ने की नई पार्टी बनाने की घोषणा
बोले-इनेलो और चश्मा अभय को मुबारक हो
(-राजकुमार अग्रवाल की रिपोर्ट )
कैथल -जींदमें आज  इनेलो में चल रही सियासी खींचतान के बीच शनिवार को इनेलो दोफाड़ हो गई और चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के बेटे अजय चौटाला ने नई पार्टी बनाने की घोषणा कर दी। उन्होंने जींद में बुलाई कार्यकर्ताओं की बैठक में निर्णय लेने के बाद कहा कि इनेलो और चश्मा छोटे भाई को मुबारक हो। वो इसे संभालकर रखे, क्यों कि वे मेरा अजीज है। हम तो नई पार्टी बनाएंगे। अभी पार्टी के नाम और झंडे की घोषणा नहीं की है। यह घोषणा एक सप्ताह के अंदर कानूनी अड़चनें पूरी करके की जाएगी। इनेलो में मचा घमासान आज अंतिम मोड़ पर पहुंच गया और दोनों भाइयों अजय सिंह चौटाला और अभय सिंह चौटाला की राहें आज जुदा हो गईं। इस तरह हरियाणा का मुख्य विपक्षी दल इंडियन नेशनल लोकदल अब दो फाड़ हो गया है। इंडियन नेशनल लोकदल के सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला के दोनों पुत्र अब अलग-अलग पार्टी में रहेंगे। इंडियन नेशनल लोकदल पर हरियाणा के नेता प्रतिपक्ष अभय सिंह चौटाला का कब्जा रहेगा और ओम प्रकाश चौटाला के बड़े पुत्र अजय सिंह चौटाला 9 दिसंबर को नई पार्टी की घोषणा करेंगे। जींद में अजय चौटाला ने नई पार्टी बनाने की घोषणा करते हुए कहा, इनेलो और चश्मा छोटे भाई बिल्लू (अभय चौटाला) को गिफ्ट करता हूं। अभय चौटाला खेमे की चंडीगढ़ हरियाणा पंचायत भवन में बैठक हुई तो अजय चौटाला गुट की बैठक जींद में हुई। अभय चौटाला के साथ 13 विधायक और प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य व प्रदेशभर से पदाधिकारी उमड़े। दूसरी ओर, इनेलो के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनंतराम तंवर और राष्ट्रीय प्रवक्ता केसी बांगड़ भी अजय व दुष्यंत चौटाला के समर्थन में आ गए। जींद में अजय चौटाला की बैठक में इनेलो के कई प्रदेश प्रकोष्ठों के पदाधिकारी,पूर्व विधायक और जिला अध्यक्ष व पदाधिकारी आए।
जींद में आयोजित कार्यकारिणी की बैठक में अजय चौटाला ने अलग पार्टी चुनने का ऐलान करते हुए कहा कि अपने छोटे भाई बिल्लू (अभय चौटाला) को इनेलो और चश्मा गिफ्ट करता हूं। अजय ने घोषणा की कि अगले तीन हफ्तों में नई पार्टी का झंडा झंडा तैयार हो जाए। अजय चौटाला 9 दिसंबर को जींद में रैली करेंगे। नई पार्टी के लिए कानूनी कार्रवाई करेंगे। अजय ने कार्यकारिणी की बैठक में कहा, हमारे सामने तीन विकल्प है। उन्होंने कहा पहला विकल्प है इनेलो और चश्मे पर दावा करें तो बैठक में उपस्थित नेताओं ने इसका विरोध किया। दूसरा विकल्प-किसी राष्ट्रीय पार्टी के साथ गठबंधन करें तो इसका भी विरोध हुआ। अजय चौटाला ने नई पार्टी का गठन करने का विकल्प दिया तो सभी ने हाथ उठा कर समर्थन किया। अजय खेमा ने जींद के देवीलाल मैदान में कार्यकर्ता सम्मेलन भी किया। अजय सिंह चौटाला द्वारा बुलाई गई कार्यकारिणी की बैठक में काफी संख्या में इनेलो के पदाधिकारी भी आए। इनमें कई प्रदेश पदाधिकारी व जिला अध्यक्ष शामिल रहे। इस बैठक में पदाधिकारियों के इनेलो से सामूहिक तौर पर इस्तीफे लिए गए। इस बैठक में नैना चौटाला सहित तीन विधायक मौजूद थे।
अजय चौटाला ने इसमें कार्यकारिणी की बैठक में लिए गए फैसलों की जानकारी दी। अजय चौटाला ने पिता की उक्तियों की चर्चा करते हुए कहा,याचना नहीं अब रण होगा। उन्होंने अभय चौटाला पर हमला करते हुए फिर उन्हें दुर्योधन कह कर संबोधित किया। उन्होंने महाभारत की चर्चा करते हुए अभय चौटाला पर निशाना साधते हुए कहा, ओमप्रकाश चौटाला महाभारत की कहानी सुनाते हुए दुर्योधन को अन्याय और हिंसा का प्रतीक बताते थे। यह दुर्योधन हिंसा का उत्तरदायी है और यह धराशाई भी होगा। उन्होंने कहा,भारी संख्या में इनेलो के वरिष्ठ नेताओं, पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने इस्तीफे सौंपे हैं। 20 नवंबर को जेल वापस जाऊंगा तो ये इस्तीफे ओम प्रकाश चौटाला साहब को सौंप दूंगा। उनको बताऊंगा कि यह असली इनेलो है। सम्मेलन में उन्होंने कई नेताओं के बनने वाले नए दल के साथ जुडऩे का ऐलान भी किया।

इनेलो के कैडर पर कब्जे की होड़ मचेगी
दोनों भाइयों के अलगाव के बाद यह साफ हो गया कि राज्य में अब इनेलो के कैडर पर कब्जे की होड़ मचेगी। अभय चौटाला के साथ खुद के अलावा 13 विधायक हैं और अजय चौटाला के खेमे में उनकी पत्नी नैना चौटाला सहित तीन विधायक हैं। इंडियन नेशनल लोकदल की चंडीगढ़ में हो रही प्रदेश कार्यकारिणी की बैठक में अभय सिंह चौटाला के साथ 13 विधायक शामिल हुए। चार विधायक इस बैठक में नहीं आए। फरीदाबाद एनआइटी के विधायक नगेंद्र भड़ाना भाजपा के साथ हैं। नैना चौटाला के साथ-साथ अनूप धानक और राजदीप फोगाट खुलकर अजय सिंह चौटाला गुट के साथ हो गए हैं।

कार्यकर्ताओं के इस्तीफे जेल लेकर जाऊंगा और चौटाला को दिखाऊंगा
कार्यकर्ताओं बैठक में अजय चौटाला द्वारा एक फॉर्म बांटा गया था, जिसमें कार्यकर्ताओं ने सामूहिक रुप से इनेलो से इस्तीफा लिखवाया है। उन्होंने कहा कि इन इस्तीफों को तिहाड़ लेक जाऊंगा और अपने पिता चौटाला को दिखाउंगा। ये देखो इनेलो सामूहिक रुप से छोड़ दी है।

9 दिसंबर को बुलाई रैली:
अजय चौटाला ने नई पार्टी के लिए 9 दिसंबर को रैली बुलाई है। इस रैली में नई पार्टी की विधिवत रुप से घोषणा की जा सकती है। उन्होंने पार्टी की बागडोर पूरी तरह दुष्यंत के हवाले करने के संकेत दे दिए हैं और जनता को कहा है कि दुष्यंत को आप लोगों को सौंप कर जा रहा हूं, इसे संभालकर रखना। अजय चौटाला ने अपने भाषण के दौरान अभय चौटाला पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मुझे कहा जाता है कि मैंने राजस्थान की राजनीति की है। मैंने कम से कम इनेलो की राजनीति तो की लेकिन अभय से पूछे कि वो कब राजस्थान जाता है।अभय इनेलो के लिए नहीं बल्कि अपने साले के लिए बीजेपी की वोट मांगने राजस्थान जाता है। आज फिर राजस्थान में नोमिनेशन है अभय फिर वहां जाएगा।अजय चौटाला ने इंडियन नेशनल स्टूडेंट आर्गेनाइजेशन को लेकर फिर से स्पष्टीकरण दिया है। उन्होंने कहा कि इनसो उनके द्वारा बनाई गई स्टूडेंट आर्गेनाइजेशन है। इसे भंग करने का किसी को अधिकार नहीं है।

सीएम बनने के लिए नहीं सम्मान की लड़ाई लड़ी:
अजय चौटाला ने कहा कि 5 नवंबर को जब से बाहर आया मैंने कभी पार्टी विरोधी बात नहीं की लेकिन फिर भी पार्टी से बाहर निकाल दिया गया। मैंने 662 किलोमीटर लंबी जन आंक्रोश यात्रा क्या सीएम बनने के लिए की थी क्या। शिक्षक भर्ती घोटाले में न तो एफआईआर, न कोई गवाही, न चार्ज फिर भी 10 साल की सजा काट रहा हूं। क्या सीएम बनने के लिए ऐसा किया था। नहीं, लोगों के सम्मान की लड़ाई के लिए ऐसा किया था।

दादा ओमप्रकाश चौटाला को खड़ा कर दूंगा इसी मंच पर:दुष्यंत
जींद में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए दुष्यंत चौटाला ने कहा कि राम ने लव-कुश को बाहर निकाला था, राम को उनके पिता ने निकाला था। इसका मतलब ये नहीं कि उन्होंने संघर्ष करना छोड़ दिया था। हम अंत तक इतनी मेहनत करेंगे कि अपने दादा ओमप्रकाश चौटाला को इसी मंच पर खड़ा कर देंगे। दुष्यंत ने कहा, हम जोड़ते रहे और वह तोड़ते रहे। हम मिलते रहे फिर भी वे धमकाते रहे। अब वक्त आ गया है करारा जवाब दिया जाए और कार्यकर्ताओं के अपमान का बदला लिया जाए।

चौटाला परिवार का राजनीतिक बंटवारा
इन्होने की पार्टी से इस्तीफा देने की घोषणा-
जींद की बैठक में उपस्थित पदाधिकारियों ने पार्टी से इस्तीफा देने की घोषणा की। जिनमें प्रमुख रूप से पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अनंतराम तवंर, इनेलो की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष फूलवती देवी,इनेलो के राष्ट्रीय महासचिव ब्रिज शर्मा, राष्ट्रीय प्रवक्ता डा. केसी बांगड, राष्ट्रीय सचिव कंवर सिंह कलवाड़ी, पूर्व मंत्री जगदीश नैय्यर, पूर्व स्पीकर सतबीर कादियान, पूर्व मंत्री हरिसिंह सैनी, पूर्व विधायक निशान सिंह, पूर्व विधायक गंगाराम,पूर्व विधायक विरेंद्रपाल, पूर्व विधायक मूलाराम, पूर्व विधायक मक्खन सिंह, पूर्व विधायक रणसिंह बैनिवाल, पूर्व विधायक नरेंद्र सांगवान, पूर्व विधायक रामकुमार सैनी, पूर्व विधायक ईश्वर पलाका, एससी सैल के प्रदेशाध्यक्ष अशोक शेरवाल, महिला विंग की प्रदेशाध्यक्ष शीला भ्याण, बीसी सैल के प्रदेशाध्यक्ष तेलूराम जोगी, बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष जगदीश कादियान, जींद जिला प्रधान कृष्ण राठी, झज्जर जिला प्रधान राकेश जाखड़, महेंद्रगढ़ जिला प्रधान सतबीर सिंह नौताना, मेवात के जिला प्रधान बदरूद्दीन,सोनीपत जिला प्रधान पदम सिंह दहिया, दादरी के प्रधान रहे नरेश द्वारका, सोनीपत के पूर्व प्रधान कुलदीप मलिक, हिसार के निवर्तमान प्रधान राजेंद्र लितानी, सदस्य प्रदेश कार्यकारिणी जयप्रकाश कंबोज, कार्यकारिणी सदस्य भूदेव शर्मा, युवा इनेलो के प्रदेश प्रभारी प्रदीप गिल, निवर्तमान युवा प्रदेशाध्यक्ष रविंद्र सांगवान,अंबाला से लोकसभा प्रत्याशी रही एवं इनेलो की वरिष्ठ नेत्री व कार्यकारिणी सदस्य कुसुम शेरवाल,इनसो के प्रभारी रणधीर सिंह चीका, के निवर्तमान प्रदेशाध्यक्ष व प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य धर्मपाल छौत, कार्यकारिणी सदस्य तूहीराम भारद्वाज, कार्यक ारिणी सदस्य धर्मपाल मकड़ौली, राजकुमार रिढाऊ सदस्य पूर्व चेयरमैन दयानंद कुंडू सहित सैंकड़ों पदाधिकारी शामिल हैं। दिल्ली प्रदेश की समस्त इनेलो कार्यकारिणी ने इनेलो से इस्तीफा देकर डा. अजय सिंह चौटाला को समर्थन देने का ऐलान किया। जिनमें प्रमुख रूप से दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष हरिसिंह राणा, दिल्ली प्रदेश प्रवक्ता दिनेश डागर, वरिष्ठ उपप्रधान ओमप्रकाश सहरावत, हेमचंद्र भट्ट, प्रचार सचिव जयवीर गांधी, कार्यालय सचिव प्रदीप शौकीन, पूर्व विधानसभा प्रत्याशी विक्रम देशवाल, पूर्व सैनिक सेल के प्रधान गोपाल सिंह मोर हैं। इसके अलावा हरियाणा प्रदेश के इनेलो के जिला स्तरीय, हलका स्तरीय एवं विभिन्न प्रकोष्ठों के अध्यक्षों ने इनेलो छोड़ कर अजय सिंह का साथ देने की घोषणा की और कल से पूरे प्रदेश में औपचारिक रूप से जिलेवार इस्तीफा देने का क्रम चलेगा। पूर्व विधायक एवं कांग्रेसी नेता नफे सिंह वाल्मीकि ने कांग्रेस पार्टी छोड़ कर आज अजय चौटाला को अपना समर्थन दिया। इस अवसर पर विधायक राजदीप फौगाट, विधायक अनूप धानक, विधायक नैना सिंह चौटाला, इनसो के राष्ट्रीय अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौटाला सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

No comments